दुनिया

सट्टा व्यापार अंतर्राष्ट्रीय व्यापार के वातावरण में विदेशी विनियोग को दे रहा,एक नया आयाम

121views
Share Now

रायपुर:विप्र कला,वाणिज्य एवम शारीरिक शिक्षा महाविद्यालय एवं शासकीय दू . ब .महिला स्नाकोत्तर महिला महाविद्यालय रायपुर छत्तीसगढ़ के संयुक्त तत्वावधान में त्रिदिवसीय अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी सट्टा व्यापार का अंतर्राष्ट्रीय व्यावसायिक वातावरण पर प्रभाव के द्वितीय दिवस के प्रथम सत्र के प्रमुख प्रवक्ता प्रो.मनोज मिश्रा (प्रोफेसर इथोपिया यूनिवर्सिटी)ने अपने व्याख्यान में बताया की सट्टा व्यापार अंतर्राष्ट्रीय व्यापार के वातावरण में विदेशी विनियोग को एक नया आयाम दे रहा है अर्थात जिस क्षेत्र की प्रत्याय अधिक होती है विनियोगकर्ता उन क्षेत्रों में ही अधिक आकर्षित होते है तथा अन्य व्यापार उपेक्षित होता जाता है अतः सट्टा व्यापार अंतरराष्ट्रीय व्यापार को विदेशी पूंजी प्रदान तो करता है किंतु अन्य क्षेत्र उपेक्षित हो जाते है।
द्वितीय सत्र की प्रमुख प्रवक्ता , दिल्ली यूनिवर्सिटी से प्रोफेसर जय शंकर शर्मा रहे जिन्होंने अपने व्याख्यान में वक्तव्य दिए की अंतरराष्ट्रीय व्यापार के वातावरण में सट्टा व्यापार का अर्थ ऊंचे आय प्रदत्त कंपनी में विनियोगो का केंद्रीयकरण होता है जो विनियोग की प्राथमिकता एवम अंशो, ऋणपत्रों की भागीदारी तथा निवेशकों की रुझान से निर्धारित की जा सकती है।
इस अवसर पर प्राचार्य डॉ . किरण गजपाल एवम डॉ मेघेश तिवारी ने कहा कि गवर्नमेंट डिग्री गर्ल्स कॉलेज के साथ संयुक्त तत्वावधान में आयोजित इंटरनेशनल सेमिनार से उपस्थित समस्त प्रतिभागियों को नए विषय के संबध में गहन जानकारी प्राप्त होगी।
प्रोफेसर मधुलिका अग्रवाल ने कहा कि विद्वानों के व्याख्यान से समस्त प्रतिभागियों को लाभ प्राप्त ही रहा है
तृतीय सत्र में डा. आराधना शुक्ला, प्रगति राय ,रक्षिता पाठक , आलोक अग्रवाल इत्यादि विद्वानों अपने विचार शोधपत्र के माध्यम से वयक्त किया।
इस अवसर पर डा ऋतु मारवाह डॉ .विवेक शर्मा, डॉ. दिव्या डा ऋतु मरवाह, निधि श्री शुक्ला ,डॉ. सीमा अग्रवाल और मोहित श्रीवास्तव , डा नेहा पांडेय,सहित समस्त प्राध्यापक और बड़ी संख्या में प्रतिभागी उपस्थित थे।

समापन समारोह 23 दिसंबर को ज्ञानेश शर्मा के मुख्य आतिथ्य एवं डॉ देवाशीष मुखर्जी प्राचार्य, महंत कॉलेज के विशिष्ट उपस्थिति में सम्पन्न होगा।

Share Now

Leave a Response