प्रदेश

राष्ट्रीय पोषण माह में अदाणी फाउंडेशन ने 2000 से अधिक महिलाओं और किशोरी बालिकाओं को बताए सुपोषण सम्बन्धी बातें

67views
Share Now

रायपुर; : अदाणी फाउंडेशन द्वारा 1 से 30 सितंबर तक चलाए गए राष्ट्रीय पोषण माह के विशेष जागरूकता अभियान कार्यक्रम का समापन शुक्रवार को ग्राम रायखेड़ा के हाई स्कूल में किया गया। इस अवसर पर हायर सेकेंडरी स्कूल के प्रिंसिपल  गजेन्द्र वर्मा, प्राइमेरी स्कूल के हेड मास्टर  चन्द्रकला वर्मा और मीडिल स्कूल के हेड मास्टर  विष्णुप्रसाद वर्मा सहित स्कूल के शिक्षकगण, आंगनवाड़ी कार्यकर्त्ता और ग्रामीण प्रतिनिधि, अदाणी पॉवर लिमिटेड के महाप्रबंधक – एचआर  भूपेन्द्र सिंह बैस तथा समस्त अदाणी फाउंडेशन स्टाफ उपस्थित थे। भारत वर्ष में हर साल सितंबर माह को राष्ट्रीय पोषण माह के रूप में मनाया जाता है। इस उपलक्ष्य में अदाणी फाउंडेशन द्वारा जिले के तिल्दा विकासखंड के छः ग्रामों में सुपोषण संबंधी जागरूकता अभियान का आयोजन किया गया था। अदाणी पावर लिमिटेड के सामाजिक सहभागिता के अंतर्गत अदाणी विलमार फार्च्यून सुपोषण कार्यक्रम के तहत 1 सितंबर से शुरू राष्ट्रीय पोषण माह कार्यक्रम में ग्राम रायखेड़ा, गैतरा, चिचोली, गौरखेड़ा और भाटापारा की कुल 2170 गर्भवती महिलाओं, शिशुवती माताओं 10 से 19 वर्ष की किशोरी बालिकाओं और शून्य से पाँच वर्ष के बच्चों सहित पुरुषों को भी शामिल किया गया था। समापन कार्यक्रम में राष्ट्रीय पोषण माह के दौरान आयोजित चित्रकला एवं कुकिंग डेमोन्सट्रेशन,थाली सजाओं इत्यादि प्रतियोगिताओं में उत्कृष्ठ प्रदर्शन हेतु स्वामी आत्मानंद हायर सेकेंडरी स्कूल के 56 विद्यार्थियों को प्रथम, द्वितीय, तृतीय एवं सांत्वना पुरुस्कार प्रदान किए गए।

*पोषण की थाली में मिलेट्स के व्यंजनों को शामिल करना*

अदाणी फाउंडेशन की सुपोषण संगिनियों ने राष्ट्रीय पोषण माह के जागरूकता अभियान की शुरुआत में आंगनवाड़ियों के संयुक्त प्रयास से पोषण स्लोगन के साथ रैली, पोषण संवाद, पोषण सलाह एवं पोषण मेला आयोजित किया। इस दौरान पौष्टिक भोजन की थाली में मिलेट के विभिन्न प्रकार के व्यंजनों को शामिल करना, गाँवो में उपलब्ध सब्जियों, विभिन्न प्रकार की पौष्टिक भाजियों को उनके गुणवत्ता को बढ़ाकर उपयोग करना, अनाज को ज्यादा पौष्टिक एवं स्वादिष्ट कैसे बनायें इत्यादि जैसे पोषण युक्त आहारों को प्रदर्शित कर जागरूक किया गया।

*कार्यक्रम का उद्देश्य कुपोषण को दूर करके “सुपोषित भारत, साक्षर भारत, सशक्त भारत” को चरितार्थ करना*

सुपोषण संगिनियों ने समूह चर्चा एवं परिवार परामर्श में आंगनवाड़ी एवं घर -घर जाकर ऐंथ्रोपोमेट्रिक माप (एंथ्रोपोमेट्री के मुख्य तत्व ऊंचाई, वजन, सिर की परिधि, बॉडी मास इंडेक्स वसा का आकलन करने के लिए शरीर की परिधि और त्वचा की मोटाई हैं।) के द्वारा मध्यम एवं गंभीर कुपोषित बच्चों की पहचान कर उसके परिवार को परामर्श दिया गया। इसके साथ ही गर्भवती महिला, शिशुवती माताओं को किचन गार्डन के लिए विभिन्न सब्जियों के बीज वितरित किये गए। इस दौरान गर्भवती महिला, शिशुवती माताओं को गर्भावस्था के 1000 दिनों का महत्त्व, गर्भावस्था से पहले व गर्भावस्था के बाद की देखभाल, जन्म के तुरंत बाद स्तनपान आदि पर समूह चर्चा, स्वाथ्य शिशु प्रतियोगिता जैसे कार्यक्रमों का आयोजन फाउंडेशन की टीम सुपोषण संगिनियों ने आंगनवाड़ी के साथ मिलकर एक माह तक राष्ट्रीय पोषण माह मनाया। जिसका मुख्य उद्देश्य स्वच्छता, हैंड वाश, साफ सफाई तथा स्वाथ्य व संतुलित भोजन के महत्त्व की उपयोगिता से जागरूक कर समाज के हर वर्ग में कुपोषण को दूर करके “सुपोषित भारत, साक्षर भारत, सशक्त भारत” के थीम को चरितार्थ करना था।

इस कार्यक्रम में महिला बाल विकास के ब्लॉक अधिकारी  समीर सौरभ ने अदाणी विलमार फार्च्यून सुपोषण कार्यक्रम द्वारा अदाणी फाउंडेशन रायखेड़ा को आँगनवाड़ी के साथ मिलकर किये गए विशाल स्वाथ्य जागरूकता कार्यक्रम के लिए आभार व्यक्त किया।

Share Now

Leave a Response