प्रदेश

पूर्व रमन सरकार में 1 लाख करोड़ से अधिक का घोटाला हुआ – कांग्रेस

64views
Share Now

रायपुर:। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहां की भाजपा का सरकार बनाने का सपना दिवा स्वप्न है राज्य की जनता भाजपा के पंद्रह साल के कुशासन को भूली नहीं है।रमन राज के भय भूख भ्रष्टाचार को याद कर जनता आज भी सिंहर उठती है बस्तर के दूरस्थ अंचल मे क़ानून का राज खत्म हो गया था। नक्सली आतंक महिला अत्याचार बलात्कार किसान आत्म हत्या का दौर छ्ग की पहचान बन गया था। पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह पर तंज कसते हुए कहा की प्रदेश की जनता रमन सिंह को चाँउर वाले नहीं बल्कि उनकी वायदा खिलाफ़ी कुशाशन के लिए याद करती है उनको भ्रष्टाचारियों का संरक्षक बताती है उनका 15 साल का कार्यकाल घोटालों घपलों धोखेबाजी के लिए जाना जाता है रमन सिंह सहपरिवार घोटालों करते थे।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहा कि रमन सरकार में 1 लाख करोड़ से अधिक का घोटाला हुआ है। हर विभाग, हर योजना में वित्तीय गड़बड़ियां किया गया। 20 लाख फर्जी राशन कार्ड और चावल की बोरी में वजन कम करके किया गया 36 हजार करोड़ का नान घोटाला सबसे बड़ा घोटाला है। 4400 करोड़ का शराब घोटाला, इंदिरा प्रियदर्शनी बैंक घोटाला 1677 करोड़ का गौशाला अनुदान घोटाला, 5 हजार करोड़ का मोबाईल घोटाला, 6400 करोड़ का ई-टेंडरिंग घोटाला, सरस्वती सायकल योजना, स्कूल ड्रेस खरीदी घोटाला, दवा खरीदी घोटाला, परिवहन घोटाला, अगुस्ता हेलीकाफ्टर खरीदी घोटाला, डीकेएस अस्पताल घोटाला, पनामा पेपर्स घोटाला, चरणपादुका खरीदी घोटाला, तेंदूपत्ता बोनस एवं बीमा घोटाला, छात्रवृत्ति घोटाला, अमृत नमक योजना में घोटाला, चना, गुड़ वितरण में घोटाला, रसायनिक खादों में घोटाला, कृषि यंत्रों के खरीदी में घोटाला, बारदाना खरीदी घोटाला, धान परिवहन घोटाला, 170 करोड़ रुपए का मच्छरदानी खरीदी घोटाला, स्काईवॉक, एक्सप्रेस-वे ,पुल-पुलिया, सड़क निर्माण में घोटाला, पशु चारा घोटाला, मुर्गी दाना घोटाला, चिटफंड घोटाला तेंदूपत्ता घोटाला सरकारी जमीन घोटाला मछली पालन घोटाला, परिवहन विभाग में घोटाला, आबकारी विभाग में घोटाला, चिकित्सक की उपकरण खरीदी घोटाला, वन विभाग में घोटाला, दिव्यांग जनों के नाम से 1000 करोड़ का घोटाला, आदिवासी बच्चों को हॉस्टल में बर्तन देने के नाम से घोटाला सहित अनेक घोटाले हैं जो 15 साल के रमन सरकार के घोटालों के इतिहास के साक्षी हैं और इन्हीं घोटालों के कारण डॉ रमन सिंह को छत्तीसगढ़ की जनता भ्रष्टाचार के अंतर्राष्ट्रीय पितामह कहती है।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहा कि भाजपा नेताओं के भ्रष्टाचार और कमीशनखोरी के चलते ही भाजपा के रायगढ़ कार्यसमिति की बैठक में तत्कालीन मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह को कहना पड़ा था कि 1 साल के लिए कमीशनखोरी बंद कर दिया जाए तो 30 सालों तक छत्तीसगढ़ को लूटा जा सकता है। रमन सरकार बनने के बाद उनके सहयोगी जो मंत्री थे जिनके पास मोटरसाइकिल में पेट्रोल डालने का पैसा नहीं होता था, 15 साल में बड़े-बड़े मॉल, रेस्टोरेंट, जमीन और लग्जरी कारों में घूमने लगे हैं। कई हजार एकड़ सरकारी जमीनों पर भाजपा नेताओं ने कब्जा कर लिया है।

पीसीसी अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहां की कांग्रेस की सरकार ने राज्य की जनता को सुशासन दिया है सरकार ने हर वर्ग की आकांक्षाओं को पूरा किया है राज्य मे फिर से कांग्रेस की सरकार बनेगी

 

Share Now

Leave a Response